संस्कृतभारती - जोधपुरम् - प्रान्तः

" पधारो म्हारो देस" यह मारवाड़ की भूमि स्वागत करने के लिए तत्पर मानी जाती है | इसलिए यहाँ संस्कृत का भी स्वागत है | केवल स्वागत ही नहीं यहाँ के लोगों में संस्कृत के प्रति अत्यधिक लगाव है | जोधपुर यह इस प्रांत की राजधानी है | मरुस्थल होने के कारण यहाँ के लोगोंमे केवल जल की पिपासा ही नहीं है अपितु ज्ञान की भी पिपासा है | आईये संस्कृत सीखकर उस पिपासा को शांत करे | साथ में दिए सूची में से किसीके साथ भी संपर्क कर सकते है |

Sambhashan Shibir
S.L
Date from - to
Time
Venue
Contact